science

Just another weblog

18 Posts

33 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1679 postid : 82

अलविदा जागरण जंक्शन बाय बाय

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अलविदा जागरण जंक्शन बाय बाय
ब्लोगर साथिओं मेरी दो ही ईमेल आई डी थी
एक पर darshnbaweja
दुसरी पर darshanlalbaweja
के नाम से SCIENCE टैग पर कुल ४९ और ये पचासवी पोस्ट अलविदा …..की डाल रहा हूँ

कुल पोस्ट =५०

कमेन्ट आये =नाम मात्र

दर्शक आये आज तक (जयादातर वाया ऑरकुट,फेस बुक) =बहुत सारे

बेस्ट कम्मेंट मनोज जी का “जिस तरह से आप नियमित रुप से विज्ञान को बढावा देने और उसके लिए काम कर रहे है वह शानदार है, इस तरह का लेख पूरी ब्लॉग जगत में कोई नही लिखता.”

अब स्पेस खत्म

बाय !!!!!!!

आगे के ब्लॉग पढ़े

http://sciencemodelsinhindi.blogspot.com/

दर्शन लाल बवेजा

०९४१६३७७१६६



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

16 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Anuradha Chaudhary के द्वारा
June 7, 2010

क्‍या आपने वास्‍तव मे जागरण जंक्‍सन को अलविदा कह दिया

    darshanlalbaweja के द्वारा
    June 7, 2010

    लो जी आ गए अभी अभी जागरण जंक्शन पर वापिस ,खीच लाया आप सब का प्यार दुबारा हमे यहाँ

Anuradha Chaudhary के द्वारा
June 5, 2010

प्रिय ववेजा जी आप इतना जल्‍दी हार मान गये। आज के युग मे क्‍या आदि काल से जो लोग समय से आगे चलते थे उनको लोग उनके जाने के बाद पूजे। आप क्‍या सोचते है। ईसा मसीह जो अपने विचारों से संसार को आलोकित किये उन्‍हे अपने जीवन काल मे दु:ख ही भुगतना पडा। अरस्‍तू को जहर का प्‍याला पीना पडा। मों0 साहब पूरे जीवन सत्‍य के लिये लडते रहे। ऐसे मे केवल कामेन्‍ट न आने से आप जागरण जंक्‍सन छोडकर चले जा रहे है यह अच्‍छा नही है। आपका इस प्‍लेटफार्म से जाना हम लोगों को निराश करेगा।

ajaykumarjha1973 के द्वारा
June 4, 2010

ओह यूं जाना तो निसंदेह दुर्भाग्यपूर्ण ही होगा ।

aditi kailash के द्वारा
June 4, 2010

दर्शन जी, आपका इस तरह ये मंच छोड़कर कर जाना सही नहीं है…..जैसा कि अन्य साथी ने भी लिखा कि ज्यादा प्रतिक्रिया का मतलब ये नहीं होता कि आपका ब्लॉग बहुत अच्छा है या कम प्रतिक्रिया का मतलब बुरा……….. आपका ब्लॉग इस मंच पर एक विशेष ब्लॉग है जो न केवल बड़े बल्कि छोटों के लिए भी बहुत ज्ञानवर्धक है…….मेरी भी आपसे एक निवेदन है कि आप अपने प्रोफाइल का नाम और tag line कुछ इस तरह का रखे कि पड़ने वालों को पता चले कि ये ब्लॉग किस विषय पर है………. उम्मीद है कि आप इस मंच को इस तरह छोड़कर नहीं जायेंगे…… लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती. नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है, चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है. मन का विश्वास रगों में साहस भरता है, चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है. आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती. डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है, जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है. मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में, बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में. मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती. असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो, क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो. जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम, संघर्श का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम. कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

manoj के द्वारा
June 4, 2010

दर्शन जी, आपके ब्लॉग को पढने से कई बच्चों में विज्ञान के प्रति जागरुकत्या जागी, आपके ब्लोग से मैने खुद भी अपने आसपास के बच्चों के साथ हाथ आजमाएं लेकिन आप का इस प्लेटफार्म से जाना मुझे बिलकुल अच्छा नेहे लगा और वह भी इसलिए क्योंकि आपके कमेंट नही आ रहे, आप शाय्द भूल गए कि आपका विषय सबसे अलग था. और इन सब के बावजूद भी कई लोगों को आपके ब्लोग अच्छे लगे. आपके जाने से हमे इस प्लेतफार्म पर आपके ब्लोग  नही मिलेगे जो हमारे लिए बेह्द बुरा है. अगर आप कहें तो हम ब्लोग कि लाइन लगवा देंगे. लेकिन याद रखिए हमें सिर्फ कर्म करते रहना चहिए और फल की चिंता नही करनी चाहिए. इसके साथ ही मैं आपको कुछ सुझाव देना चाहुंगे 1. आप जरा शब्दों का भी इस्तेमाल किया किजिए और अपने ब्क्लोग से कुछ कहने की कोशिश करें. 2. सिर्फ प्रेक्टिकल के अलावा कुछ ब्लोग ऐसे भी लिखे जिससे वास्विकता का कुछ संबध हो. खेर मैं तो ज्क्कहाना चाहुंगा कि आप इस प्लेटफार्म से न जाएं और अगर कही और जाएं तब भी उपरोइक्त बातों क का ध्यान रखे क्योकि हर जगह यही चीज है .

    darshanlalbaweja के द्वारा
    June 4, 2010

    आपके प्यार के लिए धन्यवाद , मेरे दोनों ब्लॉग का अलोटीड स्पेस (10 MB ) समाप्त हो गया है अब या तो कुछ पुरानी पोस्ट हटानी पडेंगी और या नया ब्लॉग बनाना पडेगा नए ब्लॉग के लिए एक नई आई .डी. बनानी पड़ेगी वो अनावश्यक मैं बनाना नहीं चाहता | कम कम्मेंट वाली बात कोई खास मायने नहीं रखती है मेरे डेशबोर्ड पर ये लिखा आता है आपका स्पेस 99% पूरा हो चुका है दर्शन बवेजा विज्ञान आध्यापक

    darshanlalbaweja के द्वारा
    June 4, 2010

    कृपया कोई हल बताये इस समस्या का

    nikhilbs09 के द्वारा
    June 6, 2010

    sir, me samjhta हु की apka jo १० एम् बी का स्पचे ख़तम नही हुआ है आपने शायद कुछ फाइलs जैसे की images  वागेर्हा अपलोड करी होंगी … और वो फाइल लगभग १० एम् बी की होगी…. लेकिन इसका मतलब यी नहीं है की आप अब आगे कोई ब्लॉग पोस्ट नही कर पाएंगे… कृपया यहाँ लिखना मत छोडिये.. आप जो ज्ञान बाटना चाहते हैं वो आपके पाथ्कूं तक सफलता पूर्वक पहुच रहा है…! आशा है आप यूँ अपना ज्ञान वर्धक ब्लॉग लिखते रहेंगे… धन्यवाद! निखिल सिंह, http://jarjspjava.jagranjunction.com

    nikhilbs09 के द्वारा
    June 6, 2010

    कृपया अगर संभव हो तो वो files डिलीट क्र दें.. और एक बार फिर से लिखना चालू क्र दें … अगर फिर भी बात ना बने तो http:jagranjunction.jagranjunction.com पर इस समस्या को कमेन्ट के रूप में लिख दें वो लोग अवश्या ही कोई ना कोई समाधान निकालेंगे… साभार निखिल सिंह

raziamirza के द्वारा
June 4, 2010

Namaskar Darshanji. aapke Sciene litreture ke blog par chahe comment bhale hi kum aaye par aapka jana sabko manzoor nahi tha. Harkar jitnewale ko hi BAZIGAR kahte hain Wellcome again

    darshanlalbaweja के द्वारा
    June 4, 2010

    आपके प्यार के लिए धन्यवाद , मेरे दोनों ब्लॉग का अलोटीड स्पेस (10 MB ) समाप्त हो गया है अब या तो कुछ पुरानी पोस्ट हटानी पडेंगी और या नया ब्लॉग बनाना पडेगा नए ब्लॉग के लिए एक नई आई .डी. बनानी पड़ेगी वो अनावश्यक मैं बनाना नहीं चाहता | कम कम्मेंट वाली बात कोई खास मायने नहीं रखती है मेरे डेशबोर्ड पर ये लिखा आता है आपका स्पेस 99% पूरा हो चुका है दर्शन बवेजा विज्ञान आध्यापक

sunny rajan के द्वारा
June 4, 2010

दर्शन लाल बवेजा जी नमस्कार. शायद मैं आज आपके इस कदम से बहुत आहत हु. आप तो विज्ञान को मानते है और तब भी इतनी जल्दी हार मान ली. क्या आप कमेन्ट को ही ब्लॉग की लोक्प्रियिता का साधन मानते है. शायद आपको मालूम नहीं है आप जिस विषय मे लिखते है उस विषय मे दूसरे ब्लॉगर ब्लॉग नहीं लिखते और इसका कारण यही है कि अन्य लोगों का ज्ञान विज्ञान मे बहुत काम है. विज्ञान मे लिखने के लिए आपको ज्ञान कि ज़रूरत होती है और ज्ञान एक ज्ञानी के पास ही होता है. मैं चाहता हु की आप एक बार फिर अपने इस निर्णय पर विचार करे और जागरण जंक्शन के पाठकों को इसी तरह ज्ञान देते रहे.

    rishabh के द्वारा
    June 4, 2010

    मैं राजन जी की बातों से पूरी तरह सहमत हु. बवेजा जी हम नहीं चाहते कि आप अपने ब्लॉग लिखना बंद करे.

    darshanlalbaweja के द्वारा
    June 4, 2010

    आपके प्यार के लिए धन्यवाद राजन जी , मेरे दोनों ब्लॉग का अलोटीड स्पेस (10 MB ) समाप्त हो गया है अब या तो कुछ पुरानी पोस्ट हटानी पडेंगी और या नया ब्लॉग बनाना पडेगा नए ब्लॉग के लिए एक नई आई .डी. बनानी पड़ेगी वो अनावश्यक मैं बनाना नहीं चाहता | कम कम्मेंट वाली बात कोई खास मायने नहीं रखती है मेरे डेशबोर्ड पर ये लिखा आता है आपका स्पेस 99% पूरा हो चुका है दर्शन बवेजा विज्ञान आध्यापक


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran